Skip to main content

उम्मीदों के तले सुलगना अब मुझको मंजूर नही

चूड़ी वाले कर मैं
अब तलवार उठानी है
सिंह नाद कर उठे सिंहनिया
वो ललकार लगानी है
नारी अब अबला कहलाये
ये मुझको मंजूर नही
उम्मीदों को राख बनाना
अब मुझको मंजूर नही ....

अब तक जुर्म बहुत सह लिया
बिना जुर्म अब सजा नही
शाश्वत मान ही मुझे चाहिए
सर्व सम्मत जो होय वही
केवल पुरुष प्रधान समाज हो
ये मुझको मंजूर नही
उम्मीदों को राख बनाना
अब मुझको मंजूर नही ........

सिंह से शावक को जनती हू
गर्जन वर्जन सिखलाती
फिर भी नारी पूरे समाज मैं
दोयम दर्जा ही पाती
अरिहंता केवल अब नर हो
ये मुझको मंजूर नही
उम्मीदों को राख बनाना
अब मुझको मंजूर नही ........

स्वर्णिम भविष्य इतिहास रचू मैं
बंद किवड़िया नही रहूं मैं
उम्मीदों की गठरी लेकर
कर्म विहीन सी नही जियूँ मैं
आधी दुनिया मैं  कहलाती
कर्म विमुख क्यो खड़ी रहूं मैं
चौके से आंगन तक चलना
चल के द्वारे पर रुक जाना
घुट घुट कर वही प्राण त्यागना
अब मुझको मंजूर नही
उम्मीदों को राख बनाना
अब मुझको मंजूर नही ........

ज्वालामुखी सी धधक रही मैं
दावानल चिंगारी हू
केवल कोमल भाव नही
मैं तलवार दुधारी हू
राख तले बस यूही सुलगना
अब मुझको मंजूर नही ।
उम्मीदों को राख बनाना
अब मुझको मंजूर नही ।।

डा इन्दिरा ✍️


Comments

  1. वाह!!आदरणीय इन्दिरा जी ,वाह!!क्या खूब !! बहुत हो गया रोना धोना ,जुल्मों को सहना
    नारी शक्ति जाग उठी है .....

    ReplyDelete
  2. वाह !!! क्या खूब उम्मीदें जलाई हैं।
    शब्दों में बड़ी गहराई है।
    लाजवाब रचना।

    ReplyDelete
  3. वाह मीता सम्पूर्ण आत्मा विश्वास जगाती अपने हक को पहचान देती ओजमय अप्रतिम रचना।

    ReplyDelete
  4. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक १९ मार्च २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर उम्मीद भरी रचना...
    नारी जागृत हो चुकी अब उसकी उम्मीदें अवश्य पूरी होंगी....
    लाजवाब प्रस्तुति
    वाह!!!

    ReplyDelete
  6. आदरणीय इंदिरा जी,
    आपकी लेखनी नारी जागृति का एक बिगुल है। जिसमें से हर बार एक नया स्वर फूटता है। प्रणाम है आपकी इस अद्भुत लेखनी को ।
    सादर ।

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मिलन

मिलन ...बालपने की सखी सहेली
वृद्ध अवस्था जाय मिली
भूल गई पीड़ा जीवन की
एक दूजे से गले मिली ! वही ठहाका वही खुशी थी
बात बात पर था हँसना
बचपन की सुनी गलियों में
दोनों का पुनि जा बसना ! याद आ गई नीम निमोली
कच्ची अमिया का चखना
भरी दोपहरी घर के पीछे
गुट्टे के पत्थर चुनना ! खुद दादी हो गई है अब पर
बचपन की मीठी याद आई
एक एक बेर के खातिर
कितनी हमने करी लड़ाई ! निश्छल हँसी हुई प्रवाहित
कब बिछुड़ी थी भूल गई
कल जैसी बातैं लगती है
साथ खेल कर बड़ी हुई ! डा इन्दिरा .✍
स्व रचित

पुराने खत

खुशबू जैसे लोग मिले अफसानों मैं
एक पुराना खत जो खुला अनजाने मैं ।कतरा कतरा लफ्ज बह रहे थे अंदर
स्याही अब तक गीली थी अफसानों में ।कोई आहट आज भी दस्तक देती है
जब भी फुर्सत होती है वीरानों  मैं ।अन्दर अन्दर धीरे धीरे कुछ दरक रहा
हर लम्हा खटका करता अनजाने मैं ।डा इन्दिरा✍️

इन्द्रधनुषी नार

इन्द्रधनुषी नार ...
नव रस नव रंग सरीखी
है नव रँगी नार
सात रंग के इन्द्र धनुष सा
उसके जीवन का सार !
सदा सुखद हो रंगोत्सव
ना सदा दुखद सी बात
धीमी आँच सा सुलगें
नारी का मन संसार !
स्मित सी मुस्कान सजीली
सब रंगो को भर लेती
फीकी भद्दे रंग ढाप कर
समक्ष सरस रंग रख देती !
इंद्रधनुष के सप्त रंगो से
अधिक रंग भरी दुनियाँ है
जीवन की हर श्वास भिन्न रंग
ये ही नारी की द्विविधा हें !
हर पल रंग बदलता रहता
नारी के कर्तव्यो का
एक तरफ सुर्ख चटकीला
दूजी तरफ रहा  फीका!
फूंक फूंक कर क़दम रख रही
नव रंगो को पजौख रही
द्रढ अस्मिता लेकर नारी
नव इन्द्र धनुष सँजो रही ! डा .इन्दिरा ✍