Skip to main content

वीर बहुटी ✊

कित्तूर की रानी चेन्नम्मा ( स्वतंत्रता संग्राम की प्रथम नायिका )
क्रमशः

11 दत्तक पुत्र वारिस नहीं
स्व पुत्र ही वांछित है
वर्ना राज कम्पनी राज मैं
विलय होना जरूरी है !
12
इस तरह राज हड़पने की नीती
मक्कार डलहौजी बना रहा
रानी ने इस गलत  निति की
बार बार विरोध किया !
13
पर अंग्रेजों की गिद्ध द्रष्टि तो
कित्तूर खजाने पर थी भारी
15 लाख से अधिक की राशि
उस समय खजाने की आँकी !
14
लार टपक गई अंग्रेजों की
इतना खजाना नजर आया
गंदी नीति का जाल फैलाया
रानी को उसमें फंसाया !
15
दत्तक को वारिस नहीं माने
सुन रानी बहुत भड़की थी
संघर्ष करूंगी स्वतंत्र रहूंगी
पर ये नीति नहीं मानी थी
16
रानी ने सेना का गठन किया
की सेना की तैय्यारी
जानती थी दुश्मन भारी है
तनिक ना घबराई रानी !
17
सन 1824 मैं दोनों
सेनाओं का टकराव हुआ
घमासान सा युद्ध हुआ था
धरती अम्बर भी कांपा !
18
रानी ने फैसला किया था
हार नहीं मानूंगी
स्वतंत्र रहूंगी जीवन भर
या वीर गति पाऊँगी !
19
रण कौशल देख रानी का
अंग्रेज बेचारे दंग हुए
पीछे भागी अंग्रेजी सेना
जब रानी की तलवार चले !
20
बीस हजार सैनिक और चारसौ  बंदुकै
लिये अंग्रेज लड़ते थे
पर रानी के रण  कौशल आगे
सब पानी भरते थे !
21
होश उड़ गये अंग्रेजों के
देखा रानी तलवार चलाती थी
जिस तरफ भी निकले सिंहनी
अरि लाशें सी बीछ जाती थी !
22
उल्टे पाँव भागे सब सैनिक
चेहरे पर उड़ी हवाई
रानी बन कर रण चण्डी
रण क्षेत्र उतर आई !
23
ब्रिटिश कलेक्टर और एजेंट को
मौत के घाट उतारा था
सर वाल्टर और स्टिवैन्स को
बंदी बनाकर डाला  था !
24
पर समझौते का आग्रह कर
कम्पनी ने दोनों को छुड़वाया
अपनी दोगली नीति का
नया नमूना दिखलाया !
25
दूसरे मोर्चे युद्ध जारी रखा
इधर किया समझौता
ऐसे  लम्बी चली लड़ाई
परिणाम भयंकर होना था !
26
धीरे धीरे रसद खतम
पीने का पानी नहीं बचा
इतनी लम्बी चलेगी लड़ाई
रानी को अंदाज ना था !
27
और अंत मैं हारी रानी
अंग्रेजों ने कैद किया
वेल्होगल के किले के अंदर
रानी को नजर बंद किया !
28
21फरवरी 1829 मैं
रानी ने महा प्रयाण किया
सिंहनी सा ही जीवन जिया
सिंहनी की तरह प्रस्थान किया !
29
22 से 24 अक्टूबर को
कित्तूर मैं उत्सव होता है
याद करें सब चेन्नम्मा को
उनकी शान  मैं मेला लगता है !
30
कित्तूर महल बना स्मारक
रानी की अमर कहानी का
दिल्ली के पार्लियामेंट मैं रखा 
पुतला एक स्वाभिमानी  का !

31
रानी का योगदान कहता है
जीवन मैं विचलित ना हो
अपनी शर्तों पर जियो
उसके लिये कटिबद्ध रहो !
32
धन धन थी चेन्नम्मा रानी
धन धन उसका कार्य महान
अंग्रेजों के छक्के छुडाये
स्थापित की नारी पहचान ! !

डा इन्दिरा  ✍




Comments

  1. वाह बहुत अच्छी रचना...👌👌👌👏👏👏 आदरणीया डा० इन्दिरा जी, हमारे देश में नर, नारी दोनों ही युगों से उच्च आदर्शों के लिए जाने जाते हैं. सिर गर्व से ऊँचा हो जाता है, जब-जब रानी चेन्नम्मा की कहानी पढ़ता हूँ।
    .
    दुख होता है जब, आज के प्रबुद्धजन कुछ अनपढ़ नेताओं की बात मानकर पहले के आतंकियों को पाठ्यक्रम में शामिल कर,भविष्य की भावी पीढ़ियों के कच्चे मन में गलत भावनाओं का संचार करते हैं।
    .
    मेरा मतलब किसी के प्रति दुराग्रह नहीं है, अपितु इतिहास में जो जैसा था वैसा ही दर्शाना चाहिए।🙏

    ReplyDelete
    Replies
    1. आती आभार अमित जी आपकी प्रतिक्रिया कुछ संशय पैदा कर गई मन मैं मेरे लेखन मैं कोई त्रुटि हो गई क्या तो कृपया अवगत करवाये !
      नमन

      Delete
  2. नमन आप की लेखनी को
    एक सार्थक रचना और अप्रतिम भाव।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी सराहना सदा उत्साह वर्धक

      Delete
  3. वाह दीदी बेमिसाल
    नमन है एसी वीरांगनाओं को
    और आपकी कलम को जो वीरता को दर्शाने हेतु सज्ज है
    गर्व है भारत की वीर पुत्रियों पर
    भारत के गौरवशाली इतिहास पर 🙇

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

पुराने खत

खुशबू जैसे लोग मिले अफसानों मैं
एक पुराना खत जो खुला अनजाने मैं ।कतरा कतरा लफ्ज बह रहे थे अंदर
स्याही अब तक गीली थी अफसानों में ।कोई आहट आज भी दस्तक देती है
जब भी फुर्सत होती है वीरानों  मैं ।अन्दर अन्दर धीरे धीरे कुछ दरक रहा
हर लम्हा खटका करता अनजाने मैं ।डा इन्दिरा✍️

मिलन

मिलन ...बालपने की सखी सहेली
वृद्ध अवस्था जाय मिली
भूल गई पीड़ा जीवन की
एक दूजे से गले मिली ! वही ठहाका वही खुशी थी
बात बात पर था हँसना
बचपन की सुनी गलियों में
दोनों का पुनि जा बसना ! याद आ गई नीम निमोली
कच्ची अमिया का चखना
भरी दोपहरी घर के पीछे
गुट्टे के पत्थर चुनना ! खुद दादी हो गई है अब पर
बचपन की मीठी याद आई
एक एक बेर के खातिर
कितनी हमने करी लड़ाई ! निश्छल हँसी हुई प्रवाहित
कब बिछुड़ी थी भूल गई
कल जैसी बातैं लगती है
साथ खेल कर बड़ी हुई ! डा इन्दिरा .✍
स्व रचित

इन्द्रधनुषी नार

इन्द्रधनुषी नार ...
नव रस नव रंग सरीखी
है नव रँगी नार
सात रंग के इन्द्र धनुष सा
उसके जीवन का सार !
सदा सुखद हो रंगोत्सव
ना सदा दुखद सी बात
धीमी आँच सा सुलगें
नारी का मन संसार !
स्मित सी मुस्कान सजीली
सब रंगो को भर लेती
फीकी भद्दे रंग ढाप कर
समक्ष सरस रंग रख देती !
इंद्रधनुष के सप्त रंगो से
अधिक रंग भरी दुनियाँ है
जीवन की हर श्वास भिन्न रंग
ये ही नारी की द्विविधा हें !
हर पल रंग बदलता रहता
नारी के कर्तव्यो का
एक तरफ सुर्ख चटकीला
दूजी तरफ रहा  फीका!
फूंक फूंक कर क़दम रख रही
नव रंगो को पजौख रही
द्रढ अस्मिता लेकर नारी
नव इन्द्र धनुष सँजो रही ! डा .इन्दिरा ✍