Skip to main content

नारी शक्ति को समर्पित 🙏

नारी शक्ति को समर्पित ..🙏✊

मन मेरा क्रंदन करता है
नारी के उत्पीड़न से
नारी को भोग्या ही समझा
ना  वाकिफ उसके कौशल से !
अब भी सँभल जाओ मति मंदो
अब अच्छे आसार नहीं
तार तार सा आँचल एक दिन
गले फंद ना .बन जाये कहीं !
श्वास गले में अटक जायेगा
लिया ना छोड़ा जायेगा
नारी से शापित समाज फिर
कभी नहीं बस पायेगा !
हनन कर रहे स्वयं तुम्हारा
और गर्त में समा रहे
अपने ही हाथों से नाहक
दावानल तुम जगा रहे !
कैसा विचित्र समय आया है
आँखें रहते अंधी हुए
स्व जाये से अपमानित होते
अभिशापित है अपने पन से !
उठो नारी भोग्या से योग्या
बन कर दिखलाना होगा
ममत्व नहीं अब ज्वाल बनो तुम
मन विच्छेदन करना होगा !
स्वयं बनो अब अंगारे सी 
लपटों से जज्बात हो
जलते प्रवाल से भाव प्रज्वल्लीत
डर ना ,  ना मन कोई संताप हो !
तू जगत नियंता की जननी है
तू  नर - नारायण रूप धरे
तू ही आँधी तू सोनामी
आ अब दुर्गा का रूप धरें!

डा इन्दिरा  ✍



Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

पुराने खत

खुशबू जैसे लोग मिले अफसानों मैं
एक पुराना खत जो खुला अनजाने मैं ।कतरा कतरा लफ्ज बह रहे थे अंदर
स्याही अब तक गीली थी अफसानों में ।कोई आहट आज भी दस्तक देती है
जब भी फुर्सत होती है वीरानों  मैं ।अन्दर अन्दर धीरे धीरे कुछ दरक रहा
हर लम्हा खटका करता अनजाने मैं ।डा इन्दिरा✍️

इन्द्रधनुषी नार

इन्द्रधनुषी नार ...
नव रस नव रंग सरीखी
है नव रँगी नार
सात रंग के इन्द्र धनुष सा
उसके जीवन का सार !
सदा सुखद हो रंगोत्सव
ना सदा दुखद सी बात
धीमी आँच सा सुलगें
नारी का मन संसार !
स्मित सी मुस्कान सजीली
सब रंगो को भर लेती
फीकी भद्दे रंग ढाप कर
समक्ष सरस रंग रख देती !
इंद्रधनुष के सप्त रंगो से
अधिक रंग भरी दुनियाँ है
जीवन की हर श्वास भिन्न रंग
ये ही नारी की द्विविधा हें !
हर पल रंग बदलता रहता
नारी के कर्तव्यो का
एक तरफ सुर्ख चटकीला
दूजी तरफ रहा  फीका!
फूंक फूंक कर क़दम रख रही
नव रंगो को पजौख रही
द्रढ अस्मिता लेकर नारी
नव इन्द्र धनुष सँजो रही ! डा .इन्दिरा ✍

यादें

Drindiragupta. Blogspot. Inतन्हा दूर कोई अपना सायाद आ गया आज फागुन की रुत फाग जगाये सोये  भाव जगा गया आज ।हुआ सिंदूरी क्षितिज का अंचरानीले नभ मैं फैल गया यादो की ठप्पे दार चुनरिया पवन उड़ा कर खोल गया ।महक रही केसर की क्यारी तेरी यादों से भीनी चटख चटख कर कालिया महकी याद आ गई सावन की ।झिरमिर सा यादो का मेला इत उत झूले सा डोल रहा साँझ ढले कोई यायावर मन राहो से चला गया ।चुभने लगा रंग सिंदूरी रतनारे सब रंग चुभे नयन मूंद चुप होजा मनवाअब भोर कहां जो शितिज रंगे।डा इन्दिरा✍️