Skip to main content

वीर बहुटी जालौर की वीरांगना हीरा दे

वीर बहुटी जालौर की वीरांगना हीरा दे ...
क्रमशः .....
20
राजपूत सब शाक कर रहे
महलों के सारे द्वार खुले
ललनाए अग्नि प्रवेश कर रही
जौहर की प्रचण्ड सी ज्वाल जले !
21
भीषण कल्पना से हीरा दे
स्वेद बिंदू से नहा गई
ये क्या कर डाला पति ने
अफसोस भाव मन जगा गई !
22
इतना सारा अन्याय महज
चंद अशर्फीयों के खातिर
ऐसी दौलत पा क्या जीना
मर जाना अधिक ही बेहतर !
23
फिर सोचा उस रजपूती ने
यूं  बैठें से कुछ ना होगा
जतन करूं कुछ पाप कम हो
पति तो मेरा गद्दार हुआ !
24
हीरा दे बोली पति से
तूने किया अपराध बड़ा
सजा मिलेगी उसकी तुमको
जरा रह तू यही खड़ा !
25
दहिया तब हँस कर बोला
प्रिय सजा वजा सब जाने दो
जाओ तुम शृंगार करो
मेरे मन को हर्षाने दो !
26
इतना सुनते ही हीरा दे
आपे से बाहर हो आई
माथे से बिंदी पौंछी
हाथों मैं खड्ग उठा लाई !
27
तू क्या मुझको मारेगी
कह हंसा दाहिर खुल कर
उसी पल दाहिर का सर
कट गिरा  धरा के  ऊपर !
28
रक्त बूँद से नहा गई
आँखें भी रक्ताभ हुई
चण्डी का रूप धरे हीरा
देश द्रोह से मुक्त हुई !
29
एक हाथ में खड्ग लिये
दूजे में पति दाहिर का सर
हीरा पहुंची महलों मैं
सब बात कहीं होके अधीर !
30
दाहिर ने खिलजी को कैसे
महल का भेद बताया था
हार के लौट रहा था खिलजी
क्यों पलट के वापस आया था !
31
कान्ड्व देव रह गये देखते
हीरा दे के जज्बे को
उठ आसन से नमन किया
उस वीरांगना नारी को !
32
हीरा दे जैसी नारी
विरली ही पैदा होती है
अपनों से पहले देश रखे
ऐसी वीरांगना कहीं ना देखी है !
33
पति केवल परमेश्वर होता
घुटी मैं जिसे पिलाया था
उस माटी से ऐसी कन्या
निपजेगी अचरज सा होता !
34
देश भक्ति के लिये किसी का
राजा , रानी होना दरकार नहीं !
जज्बा हो देशभक्ति का दिल मैं
एक यही बात विशेष रही !
35
अफसोस बड़ा भारी मन को
यक्ष प्रश्न सा बना खड़ा
हीरा दे जैसी वीरांगना के खातिर
इतिहास क्यों मौन भाव रहा !
36 
श्रध्दा से सर झुक जाता है
जब ऐसे जियाले दिखते  है
जो हम सोच नहीं सकते
वो पल में कर गुजरते है !
37
आओ हम आज खड़े होकर
हीरा दे को  शीश झुकाते है
बड़ी तपस्या के बाद
ऐसे लोग धरा पर आते है !
38
धन धन है जालौर धरा
धन धन है वहाँ की माटी
हीरा दे जैसी बेटी के कारण
वन्दनिय है वहाँ की थाती !

नमन 🙏

डा इन्दिरा ✍



Comments

  1. सुंदर रचना
    हीरा दे जैसी नारी
    विरली ही पैदा होती है
    अपनों से पहले देश रखे
    ऐसी वीरांगना कहीं ना देखी है !
    नमन है बारम्बार वीरांगना हीरा दे को🙏🙏

    ReplyDelete
  2. सुंदर रचना
    हीरा दे जैसी नारी
    विरली ही पैदा होती है
    अपनों से पहले देश रखे
    ऐसी वीरांगना कहीं ना देखी है !
    नमन है बारम्बार वीरांगना हीरा दे को🙏🙏

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

पुराने खत

खुशबू जैसे लोग मिले अफसानों मैं
एक पुराना खत जो खुला अनजाने मैं ।कतरा कतरा लफ्ज बह रहे थे अंदर
स्याही अब तक गीली थी अफसानों में ।कोई आहट आज भी दस्तक देती है
जब भी फुर्सत होती है वीरानों  मैं ।अन्दर अन्दर धीरे धीरे कुछ दरक रहा
हर लम्हा खटका करता अनजाने मैं ।डा इन्दिरा✍️

इन्द्रधनुषी नार

इन्द्रधनुषी नार ...
नव रस नव रंग सरीखी
है नव रँगी नार
सात रंग के इन्द्र धनुष सा
उसके जीवन का सार !
सदा सुखद हो रंगोत्सव
ना सदा दुखद सी बात
धीमी आँच सा सुलगें
नारी का मन संसार !
स्मित सी मुस्कान सजीली
सब रंगो को भर लेती
फीकी भद्दे रंग ढाप कर
समक्ष सरस रंग रख देती !
इंद्रधनुष के सप्त रंगो से
अधिक रंग भरी दुनियाँ है
जीवन की हर श्वास भिन्न रंग
ये ही नारी की द्विविधा हें !
हर पल रंग बदलता रहता
नारी के कर्तव्यो का
एक तरफ सुर्ख चटकीला
दूजी तरफ रहा  फीका!
फूंक फूंक कर क़दम रख रही
नव रंगो को पजौख रही
द्रढ अस्मिता लेकर नारी
नव इन्द्र धनुष सँजो रही ! डा .इन्दिरा ✍

यादें

Drindiragupta. Blogspot. Inतन्हा दूर कोई अपना सायाद आ गया आज फागुन की रुत फाग जगाये सोये  भाव जगा गया आज ।हुआ सिंदूरी क्षितिज का अंचरानीले नभ मैं फैल गया यादो की ठप्पे दार चुनरिया पवन उड़ा कर खोल गया ।महक रही केसर की क्यारी तेरी यादों से भीनी चटख चटख कर कालिया महकी याद आ गई सावन की ।झिरमिर सा यादो का मेला इत उत झूले सा डोल रहा साँझ ढले कोई यायावर मन राहो से चला गया ।चुभने लगा रंग सिंदूरी रतनारे सब रंग चुभे नयन मूंद चुप होजा मनवाअब भोर कहां जो शितिज रंगे।डा इन्दिरा✍️