Skip to main content

लेखन

लेखन
ये है माध्यम
मन से मन का
कोरा बस एक
प्रष्ठ नहीं
लेखन भीतर
ढेरों क्षण है
लिखे हुए बस
शब्द नहीं !
सुनो ध्यान से
मसि  की भाषा
मौन कह रही
छंद कई
जीवन भर का
गुणा भाग है
भाव सिक्त से
शब्द कई !
लफ्ज लफ्ज
बहता स्पंदन
हिय के कहता
जज्बात कई
इत वीणा
तार झंकृत है
उत बह जाती
अमि घार कोई ! !

डा इन्दिरा ✍

Comments

  1. जी, सही है कि लेखन माध्यम है मन का..
    सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर और सच्ची कविता
    लाजवाब अतुलनीय

    ReplyDelete
  3. बहुत खूबसूरत .... बहुत खूब

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. सुनो ध्यान से मसि की भाषा
    मौन कह रही छंद कई
    जीवन भर का गुणा भाग है
    भाव सिक्त से शब्द कई !
    .
    वाह दीदी वाह वाह वाह... बस इतना ही कह पा रहा हूँ। बस अप्रतिम.. वाह बहुत सुंदर कविता👌👌👌👏👏👏🙏

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया bro आपकी वाह मैं भी जो बात है अविस्मरणीय है भाई
      मन उत्साहित हो गया ..नमन

      Delete
  6. अप्रतिम सुंदर मीता लिखे हुए सिर्फ शब्द नही. ...
    अतर के गहरे अनकहे भाव होते हैं वाह रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप से बेहतर मेरे काव्य कौन समझ सकता है मीता आभार

      Delete
  7. बहुत बहुत अद्भुत असाधारण अप्रतिम।।।। नमन आपकी कलम को

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी प्रतिक्रिया साधरण को असाधारण बना देती है मौलिक जी आप जैसे एंकर आलोचक और कवि यदि सराहना करें तो लेखन सार्थक हो जाता है !
      धन्यवाद

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

पुराने खत

खुशबू जैसे लोग मिले अफसानों मैं
एक पुराना खत जो खुला अनजाने मैं ।कतरा कतरा लफ्ज बह रहे थे अंदर
स्याही अब तक गीली थी अफसानों में ।कोई आहट आज भी दस्तक देती है
जब भी फुर्सत होती है वीरानों  मैं ।अन्दर अन्दर धीरे धीरे कुछ दरक रहा
हर लम्हा खटका करता अनजाने मैं ।डा इन्दिरा✍️

इन्द्रधनुषी नार

इन्द्रधनुषी नार ...
नव रस नव रंग सरीखी
है नव रँगी नार
सात रंग के इन्द्र धनुष सा
उसके जीवन का सार !
सदा सुखद हो रंगोत्सव
ना सदा दुखद सी बात
धीमी आँच सा सुलगें
नारी का मन संसार !
स्मित सी मुस्कान सजीली
सब रंगो को भर लेती
फीकी भद्दे रंग ढाप कर
समक्ष सरस रंग रख देती !
इंद्रधनुष के सप्त रंगो से
अधिक रंग भरी दुनियाँ है
जीवन की हर श्वास भिन्न रंग
ये ही नारी की द्विविधा हें !
हर पल रंग बदलता रहता
नारी के कर्तव्यो का
एक तरफ सुर्ख चटकीला
दूजी तरफ रहा  फीका!
फूंक फूंक कर क़दम रख रही
नव रंगो को पजौख रही
द्रढ अस्मिता लेकर नारी
नव इन्द्र धनुष सँजो रही ! डा .इन्दिरा ✍

यादें

Drindiragupta. Blogspot. Inतन्हा दूर कोई अपना सायाद आ गया आज फागुन की रुत फाग जगाये सोये  भाव जगा गया आज ।हुआ सिंदूरी क्षितिज का अंचरानीले नभ मैं फैल गया यादो की ठप्पे दार चुनरिया पवन उड़ा कर खोल गया ।महक रही केसर की क्यारी तेरी यादों से भीनी चटख चटख कर कालिया महकी याद आ गई सावन की ।झिरमिर सा यादो का मेला इत उत झूले सा डोल रहा साँझ ढले कोई यायावर मन राहो से चला गया ।चुभने लगा रंग सिंदूरी रतनारे सब रंग चुभे नयन मूंद चुप होजा मनवाअब भोर कहां जो शितिज रंगे।डा इन्दिरा✍️