Skip to main content

वीरांगना रानी द्रौपदी

वीरांगना रानी द्रौपदी
धार क्षेत्र क्राँति की सूत्रधार .!

रानी द्रौपदी निसंदेह ही एक प्रसिद्ध वीरांगना हुई है जिनके बारे मैं लोगों को बहुत कम जानकारी है
! छोटी से रियासत की रानी द्रौपदी बाई ने अपने कामों ये सिद्द कर दिया की भारतीय ललनाओ मैं भी रणचण्डी और दुर्गा का रक्त प्रवाहित है !
धार मध्य भारत का एक छोटा सा राज्य जहां के  निसंतान  राजा ने  देहांत के एकदिन पहले ही अवयस्क छोटे  भाई को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया
22 मैं 1857 को राजा का देहांत हो गया ! रानी द्रौपदी ने राज भार सँभला !
रानी द्रौपदी के मन मैं क्राँति की ज्वाला धधक रही थी रानी के राज संभालते ही क्राँति की लहर द्रुत गति से बह निकली ! रानी ने रामचंद्र बाबू को अपना दीवान नियुक्त किया वो जीवन भर रानी के समर्थक रहे !
सन 1857 मैं रानी ने ब्रितानिया का विरोध कर रहे क्रांतिकारीयों  को पूर्ण सहयोग दिया
सेना मैं वेतन पर अरब और अफगानी सैनिक नियुक्त किये जो अंग्रेजों को पसंद नहीं आया ! अंग्रेज रानी द्रौपदी की वीरता और साहस को जानते थे सम उनका खुल कर विरोध नहीं करते थे ! और रानी कभी अंग्रेजो
से भयभीत नहीं हुई उनके खिलाफ क्रँतिकारियों का सदा पूर्ण समर्थन किया ! क्रन्तिकारी अंग्रेजों की डाक लूट लेते घरों मैं आग लगा देते ! रानी के भाई भीम राव भी बड़े क्रांतिकारी थे !
धार के सैनिकों ने अमकेन राज्यों के सैनिकों के साथ मिल कर सरदार पुर पर आक्रमण किया रानी के भाई भीमराव ने क्रांतिकारियों का स्वगत किया लूट कर लाई गई तोपें अपने किले मैं रखी 31 अगस्त को क्रांतिकारियों ने धार किले पर पूरा अधिकार कर लिया और रानी उनको पूर्ण समर्थन देती रही !
इससे अंग्रेज कर्नल भड़क उठा ! और रानी को चेतावनी दी आगे की वही जिम्मेदार होगी ! रानी कब डरने वाली थी !
रानी और राज दरबार द्वारा विद्रोह की प्रेरणा दिये जाने  के कारण समस्त माल्यवान क्षेत्र मैं क्रांति की चिंगारी फैल गई !
नाना साहब भी वही आस पास जमे हुए थे !  क्रांति नेता गुलफाम बादशाह खांन सआदत खांन और रानी स्वयं अंग्रेजों को बहुत परेशान करते !
अंग्रेजों को ये गवारा ना हुआ और 22 अक्टूबर 1857  को धार के किले को चारों तरंग से घेर लिया ! लाल पत्थर का मैदान से 30 फीट ऊंचाई  पर बना किला ! जम कर मुकाबला हुआ
24se30 अक्टूबर तक मुकाबला चलता रहा ! पर किले मैं दरार पद जाने के कारण अंग्रेज अंदर आ गये पर कौ क्रांतिकारी हाथ नहीं आया रानी ने सब को गुप्त रास्ते से भेज दिया ! क्रोधित कर्नल ने किले को ध्वस्त कर दिया ! धार पर अधिकार जमा रामचंद्र जी को ही दीवान नियुक्त किया ! फिर 1860 मैं वयड्क हुए आनंद राव को राजा बना दिया !
रानी द्रौपदी जी के मृत्यु के सम्बंध मैं प्रमाणित जानकारी नहीं है किले के साथ ध्वस्त हुई या क्रांतिकारियों के साथ बच निकली !
इस तरह रानी द्रौपदी जीवन पर्यंत धार क्षेत्र के लोगों को क्रांति की प्रेरणा देती रही ! और अंग्रेजों का विरोध  कर टी रही ! वो सदा स्वतंत्र विचारधरा की समर्थक रही अंग्रेज उनसे डरते थे वो उनसे कभी नहीं डरी !

1 छोटे से धार क्षेत्र की
थी वो अद्भुत रानी
हार नहीं मानी जीवन भर
दे गई अमर कुर्बानी !
2
अंग्रेज सदा डरते थे उनसे
थी उनकी शान निराली
रानी को खुश सदा रखने
उनकी बात सदा मानी ! 
3
पर रानी भयभीत निडर
अंग्रेजों की बात ना माने
क्रांतिकारियों को पूर्ण  समर्थन
अंग्रेजों की खिलाफत कर माने !
4
निसंतान द्रौपदी पति ने
छोटे भाई को गोद लिया
अवयस्क था भाई रानी ने
  राज भार सब संभाल लिया !
5
आनंद राव अभी बालक थे
राज नहीं कर सकते थे
रानी द्रौपदी ने आगे बढ़ कर
सब राज भार संभाले थे
6
बड़ी सुभट वीर थी रानी
क्रांति वीर कहाती थी
मध्य भारत के धार  क्षेत्र की
वो क्रांति की नई चेतना थी !
7
22मई  सन 1857  को
पति का देहांत हुआ
रानी ने सेना सुदृढ़ बनाईं थी
क्रांति कारियों का साथ दिया !
8
रानी के सीने की भीतर
क्रांति ज्वाल धधकती थी
जब से रानी ने राज संभाला
क्राँति प्रचण्ड रूप फैलती थी !
9
रानी ने विश्वास पात्र
रामचंद्र बाबू को दीवान किया
स्वामी भक्त दीवान रहे वो
रानी का हरदम साथ दिया !
10
सेना मैं रानी ने सैनिक
अरब अफगानी नियुक्त किये
तनखा पर रखा था उनको
जो अंग्रेजों को बहुत खले !

डा इन्दिरा  ✍
क्रमशः

Comments

  1. वाह! प्रशंसा शब्दों से परे!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी प्रतिक्रिया लेखन की सार्थकता ! 🙏

      Delete
  2. बहुत सुन्दर हमेशा की तरह......
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका स्नेह सदा आभारी

      Delete
  3. मैंने भी इनके बारे में नहीं सुना था। आप की रचना के माध्यम से हमारा भी ज्ञान बढ़ रहा है।बहुत सार्थक रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. वीर बहुटी के द्वारा जो सब का नेह मिल रहा है उससे अविभूत हूँ !

      Delete
  4. नयी बात... रोचक जानकारी... गर्वानुभूति 🙏👌👌👌👏👏👏

    ReplyDelete
  5. आपकी ये 'वीर बहुटी' काव्य श्रृंखला जो कि वक़्त की गर्द में विलुप्त हुईं देश की अमर ललनाओं को समर्पित है, एक पुनीत और अविस्मर्णीय रचनात्मक अभियान है। आपकी इस श्रृंखला ने इतिहास में आपको सदा सदा के लिए सम्मानीय स्थान प्रदान किया है। और एक मिसाल प्रस्तुत की है कि रचनाकारों की रचनात्मक कैसे सार्थक हो सकती है।

    बहुत अद्भुत। अनुपम। वंदनीय। स्मर्णीय। अभिनंदनीय। नमन डॉक्टर साहिबा आपकी प्रतिबद्धता को, आपकी कलमकारी को। सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी अति वजनी और सुड्रड शब्दों मैं की गई सराहना कलम को सशक्त कर गई और हृदय को सुकूं दे गई !
      वीर काव्य सरस नहीं होता पर आपकी सरस प्रतिक्रिया ने इस लेखन में एहसास की नदियां प्रवाहित कर दी ! इतिहास को तो मैं नहीं जानती पर आप जैसे सुपाठ्को की वजह से काव्य जरूर सम्मनित हो गया !
      अतुल्य आभार ..🙏

      Delete
  6. अतुल्य आभार मौलिक जी आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रिया का ! इतिहास का तो पता नहीं पर आपकी सुंदर सराहनीय प्रतिक्रिया ने तो मेरे साधारण लेखन को अति विशिष्ट कर दिया !
    वीर रस की इतनी सरस विवेचना ..नमन मन और लेखन धन्य हो गया !
    सुपाठक ही काव्य के उदगम स्थल को पराकाष्ठा पर पहुंचा कर उसे कालजई बना देते है !
    पुनः आभार कविवर उत्तम मन भावन विचार !

    ReplyDelete
  7. 🙏नमन प्रणाम कविराज मौलिक जी ..आपकी अद्भुत प्रतिक्रिया काव्य को इतिहास का तो पता नहीं पर ह्रदय मैं चिंहित हो गई !
    आज तो सराहना को पराकाष्ठा की ऊंचाई पर पहुंचा लेखन को काल जई होने की सुखद अनुभूति से मन को गद गद और भाव विभोर कर दिया हौसला अफजाई का अतुल आभार !
    सुपाठक गण ही काव्य की कसौटी ही ....आपकी पारखी नजर को नमन मौलिक जी

    ReplyDelete
  8. वाह शत शत नमन है हमारे देश की एसी वीरांगनाओं को और आप जैसी सुंदर उत्क्रष्ट कलमकारों को जो ऐसे छुपे वीर रत्नों को हम सबके बीच लाकर हमे इनसे मिलने का सौभाग्य देती हैं और हम सबके रक्त में वीर रस को घोलती हुई प्रेरणा प्रदान करती हैं की आगे ज़रूरत पड़ने पर हम भी अपनी माटी के मान की रक्षा कर सकें
    आपकी ये वीर बहुटी की धीरे धीरे बढ़ती ये श्रंखला आगे चलकर नयी पीढ़ी के लिए अमूल्य धरोहर सी बन जायेगी और आपके द्वारा इन वीरांगनाओं का वर्णन माँ भारती के माथे पर हर बार गर्व का तिलक लगा माटी को गौरवान्वित करता है और इसके लिए आप भविष्य में सदा याद की जायेंगी।
    आप के द्वारा इन वीरांगनाओं से मिल पाने के लिए सदा आभारी हूँ

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

वीरांगना सूजा कँवर राजपुरोहित मारवाड़ की लक्ष्मी बाई

वीर बहुटी वीरांगना सूजा कँवर राज पुरोहित मारवाड़ की लक्ष्मी बाई ..✊ सन 1857 ----1902  काल जीवन पथ था सूजा कँवर  राज पुरोहित का ! मारवाड़ की ऐसी वीरांगना जिसने 1857 के प्रथम स्वाधीनता संग्राम मैं मर्दाने भेष में हाथ मैं तलवार और बन्दूक लिये लाड्नू (राजस्थान ) में अंग्रेजों से लोहा लिया और वहाँ से मार भगाया ! 1857 से शुरू होकर 1947 तक चला आजादी का सतत आंदोलन ! तब पूर्ण हुआ जब 15 अगस्त 1947 को देश परतंत्रता की बेड़ियों से मुक्त हुआ ! इस लम्बे आंदोलन में राजस्थान के योगदान पर इतिहास के पन्नों मैं कोई विशेष  चर्चा नहीं है ! आजादी के इतने  वर्ष बीत जाने के बाद भी राजस्थानी  वीरांगनाओं का  नाम और योगदान कहीं  रेखांकित नहीं किया गया है ! 1857 की क्रांतिकी एक महान हस्ती रानी लक्ष्मी बाई को पूरा विश्व जानता है ! पर सम कालीन एक साधारण से परिवार की महिला ने वही शौर्य दिखलाया और उसे कोई नहीं जानता ! लाड्नू  में वो मारवाड़ की लक्ष्मी बाई के नाम से जानी और पहचानी जाती है ! सूजा कँवर का जन्म 1837 के आस पास तत्कालीन मारवाड़ राज्य के लाडनू ठिकाने नागौर जिले ( वर्तमान मैं लाडनू शहर )में एक उच्च आद

वीर बहुटी ..वीरांगना जैतपुर की रानी

वीर बहुटी वीरांगना जैतपुर की रानी ..✊ बात उस समय की जब ईस्ट इंडिया कम्पनी विस्तार नीति का पालन कर रही थी ! लार्ड क्लाइव ने भारत में ब्रितानी राज्य की स्थापना की ! जिसे लार्ड कार्न्वलीस और लार्ड बेलेजली  ने भारत के कोने कोने में फैला दिया ! लार्ड डलहौजी ने हड़प की नीति अपनाते हुए झांसी .सतारा .आदी राज्यों को कम्पनी साम्राज्य में मिला लिया ! बाकी बचे राजाओं और सरदारों के अधिकार भी समाप्त कर दिये ! लार्ड एलन वर्ड ने जैतपुर जैसी छोटी सी रियासत के स्वतंत्र अस्तित्व को तहस नहस कर दिया ! जैतपुर बुंदेलखंड की एक छोटी सी रियासत थी ! कम्पनी सरकार ने 27 नवम्बर सन 1842 ई में जैतपुर पर अधिकार कर उसे ब्रितानी राज्य में मिला लिया ! उस समय जैतपुर में आजादी का प्रेमी राजा परीक्षित शासन करते थे ! उनके जीवन का मुख्य उद्देश्य ब्रितानी सत्ता को भारत से जड़ से उखाड़ फैंकना था ! पर वह कम्पनी सरकार की तुलना में बहुत कमजोर और कम थे ! अतः कम्पनी सरकार ने बहुत आसानी से उन्हें पराजित कर जैतपुर पर अपना अधिकार कर लिया ! ऐसी स्तिथि में राजा परीक्षित को अपना जैतपुर छोड़ कर भागने को विवश होना पड़ा ! ब्रिटिश सरकार ने अ