Skip to main content

कर्म रेख

कर्म रेख ....

कर्म रेख अति पारखी
पाथर की सी रेख
घिसत घिसत नाही घिसे
कर्मन को फल देत !
कर्म फल के कारणे
नारायण धरो शरीर
राम .कृष्ण और बावनौ
सब कर्मन की लिखों लकीर !
राजा. रंक .रकीब  सब
एक मनुज हुई जाय
जैसे जाके कर्म है
वैसो ही फल पाय !
एक पाथर मन्दिर पुजे
दूजों ठोकर खाय
एक तराजू तुल रहो
दूजों चाकू सान चढ़ाय !
एक शीश पर मुकुट है
दूजों शीश झुकाय
एक शीश मति भ्रम फिरे
रोजही पाथर खाय !
कर्म गति अति कठिन है
नाही कोई उपाय
करनी सब भरनी पड़े
चाहे मन कू नाय सूहाय !

डा .इन्दिरा .✍

Comments

  1. आदरणीया इंदिरा जी आपने इस रचना में
    कर्म रेखा की प्रासंगिकता को बड़े ही सुंदर ढंग से प्रस्तुत किया है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहिल आभार अभिलाषा जी
      कर्म गति टारे ना टरे
      ये ही अखण्ड है बात
      प्रभु राम को कर्म से
      भोगना पड़ा वनवास

      Delete
  2. कर्म रेखा वाह दीदी जी
    बेहद खूब्सुरत लाजवाब उत्क्रष्ट रचना 👌

    ReplyDelete

  3. कर्म रेख अति पारखी
    पाथर की सी रेख
    घिसत घिसत नाही घिसे
    कर्मन को फल देत ! बहुत सुंदर रचना इंदिरा जी

    ReplyDelete
  4. वाह वाह मीता सुंदर कर्म संदेश
    जीवन सत्य को उजागर करते
    साधुवाद।

    रे प्राणी कर्म समो नही कोई
    कर्म हंसावे कर्म रूलावे
    कर्मा तना ऐ चाला
    रे प्राणी कर्म.....

    खोटे करमण के कारण
    जीवन में कष्ट है आवत
    कर के बुरे करम हे मानव तूं
    पीछे क्यों पछतावत
    कर्मों की गति बड़ी निराली
    छूटे ना राजा रंक,
    ना नल छूटे ना पांचो पांडव
    ना त्रिलोकी के फंद।

    रे प्राणी कर्म समो नही कोई।

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सार्थक और विचारणीय रचना। विषय ,भाव,शब्द चयन सब बेहद खूबसूरत है। बहुत अच्छा लिखा।

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

पुराने खत

खुशबू जैसे लोग मिले अफसानों मैं
एक पुराना खत जो खुला अनजाने मैं ।कतरा कतरा लफ्ज बह रहे थे अंदर
स्याही अब तक गीली थी अफसानों में ।कोई आहट आज भी दस्तक देती है
जब भी फुर्सत होती है वीरानों  मैं ।अन्दर अन्दर धीरे धीरे कुछ दरक रहा
हर लम्हा खटका करता अनजाने मैं ।डा इन्दिरा✍️

इन्द्रधनुषी नार

इन्द्रधनुषी नार ...
नव रस नव रंग सरीखी
है नव रँगी नार
सात रंग के इन्द्र धनुष सा
उसके जीवन का सार !
सदा सुखद हो रंगोत्सव
ना सदा दुखद सी बात
धीमी आँच सा सुलगें
नारी का मन संसार !
स्मित सी मुस्कान सजीली
सब रंगो को भर लेती
फीकी भद्दे रंग ढाप कर
समक्ष सरस रंग रख देती !
इंद्रधनुष के सप्त रंगो से
अधिक रंग भरी दुनियाँ है
जीवन की हर श्वास भिन्न रंग
ये ही नारी की द्विविधा हें !
हर पल रंग बदलता रहता
नारी के कर्तव्यो का
एक तरफ सुर्ख चटकीला
दूजी तरफ रहा  फीका!
फूंक फूंक कर क़दम रख रही
नव रंगो को पजौख रही
द्रढ अस्मिता लेकर नारी
नव इन्द्र धनुष सँजो रही ! डा .इन्दिरा ✍

यादें

Drindiragupta. Blogspot. Inतन्हा दूर कोई अपना सायाद आ गया आज फागुन की रुत फाग जगाये सोये  भाव जगा गया आज ।हुआ सिंदूरी क्षितिज का अंचरानीले नभ मैं फैल गया यादो की ठप्पे दार चुनरिया पवन उड़ा कर खोल गया ।महक रही केसर की क्यारी तेरी यादों से भीनी चटख चटख कर कालिया महकी याद आ गई सावन की ।झिरमिर सा यादो का मेला इत उत झूले सा डोल रहा साँझ ढले कोई यायावर मन राहो से चला गया ।चुभने लगा रंग सिंदूरी रतनारे सब रंग चुभे नयन मूंद चुप होजा मनवाअब भोर कहां जो शितिज रंगे।डा इन्दिरा✍️