Skip to main content

वीर बहुटी ✊वीरांगना अवंतिका बाई

वीरांगना अवंतिका बाई लोधी
प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की प्रमुख सूत्रधार !
क्रमशः
14
ऐसा कानून बनाया जालिम  ने
नाम " कोर्ट ऑफ़ वर्ड्स " रखा
इसके अंतर्गत रामगढ को
हथियाने का षडयंत्र रचा !
15
तहसीलदार रखा अंग्रेजों ने
रामगढ को आधीन किया
पेंशन मुकर्रर करदी एक
रानी से ना सहा गया !
16
पर रानी ने शांत भाव रख
अपमान का घूंट पी डाला
अनुकूल समय का इंतजार
करने लगी चतुर बाला !
17
सन 1857 में जब
क्रांति का था ज्वार उठा
रानी के कानों तक भी
निनाद उसका जा पहुंचा !
18
फिर क्या था अवंतिका रानी ने
एक ऐसा खत तैयार किया
उसके साथ चूडियाँ रख कर
जागीरौ मैं भिजवाया !
19
खत मैं अंगार शब्द लिखे थे
जो छाती को दग्ध करें
हर देशभक्त के मन मैं
अग्नि प्रज्वलित कर देवे !
20
लिखा "देश रक्षा के लिये कमर कसो
या चूड़ी पहन के घर बैठो
धर्म ईमान की सौगंध लगे
जो खत की खबर बैरी को दो " !
21
कई जागीरदार उठ खड़े हुए
जो रानी का साहस जानते थे
साथ मिल गये रानी के
रानी का शौर्य पहचानते थे !
22
क्रांति बीज बोये रानी ने
सभा - और महा सभायें की
कानों कान खबर ना किसी को
गुप चुप क्रांति की तैयारी की !
23
पर हाय दुर्भाग्य  भारत का
विश्वासघाती  सदा साथ रहा
हर क्रांति असफल होने का
यही एक कारण सा रहा !
24
रीवा नरेश नपुंसक निकले
अंग्रजों से जाय मिले
रानी का साथ छोड़ा अधम मैं
विश्वास घात वो कर बैठे
25
विश्वासघाती लोगों के कारण
अंग्रेजों को भनक लगी
रानी के प्रमुख सहयोगियों को
अंग्रेजों ने फाँसी देदी !
26
इससे क्रोधित हो रानी ने
तहसीलदार को मार भगाया
मध्य भारत क्रांति का उसने
इस तरह से बीड़ा उठाया !
27
अब तो रानी अवंतिका
अंग्रेजों को किरकिरी लगी
मध्य भारत की ज्वाल क्रांति
रानी अवंतिका के नाम रही !
28
रानी के विद्रोह के कारण
मण्डला कमिशनर झल्लाया
तुरंत हाजिर होने का
फरमान रानी को भिजवाया !
29
कब डरने वाली थी सिंहनी
युद्ध करने का सोच लिया
किला बनाया सुदृढ़ मजबूत
सेना का आव्हान किया !
30
एक एक क्रांतिप्रिय  नेता
रानी से आकर जुड़ते थे
अंग्रेज नहीं भांप पाये
रानी के क्या मनवंतर थे !
30
रानी ने हमला बोल दिया
सेना लेकर चढ़ दौड़ी
घूंघरी .रामनगर .बिछिया से
अंग्रेजो को दूर भगा मानी ! 
31
फिर मण्डला पर किया आक्रमण
यहाँ  मुठभेड़ हुई भारी
अंग्रजों को धूल चटाई
उनका नुकसान हुआ भारी !
32
अंग्रेज तिलमिलाए भड़क गये
पहले से ही खफा खफा से थे
कोढ़ मैं खाज रानी अवंतिका के
युद्ध कौशल समझ ना आते थे 
33
छोटी सी सेना रानी की
अंगेजों की बड़ी विशाल
फिर भी मात देती थी रानी
अंग्रेजों का चले ना दाव  ! 
34
भाँप गई थी रानी भी अब
यहाँ से प्रस्थान उचित होगा
कूच किया रानी ने वहाँ से
देवगढ़ पहाडियों में डाला डेरा !
35
पर अंग्रेज कहाँ मानते
पीछा ना छोड़ा रानी का
वहाँ भी पहुंच गये नराधम
चारों तरफ डाला घेरा !
36
इस तरह  घेर कर रानी को
जोर से ये ऐलान  किया
आत्म समर्पण कर दो नहीं तो
भुन जायेगी तेरी सेना !
37
आत्मसमर्पण नहीं युद्ध
रानी कह हुन्कारी थी
स्वतंत्र रहूंगी या कट मरुगी
ऐसी मन मैं ठानी थी !
38
घमासान सा युद्ध हुआ
गोली , खंजर सब चलते थे
तलवार चलाती थी रानी
अरि पलक झपकते मरते थे !
39
इतने मैं एक गोली ने
आ रानी के हाथ को चूम लिया
छिटक गई तलवार हाथ से
रानी का बाँया हाथ झूल गया ! 
40
समझ गई रानी उस पल मैं
तनि भी देर नहीं कीनी
अंगरक्षक से कटार  छीन
अपनी छाती मैं पेवस्त कीनी !
41
वीर अवंतिका मरी नहीं
शहीद हो गई उस ही पल
अंग्रेज सहमे देख रहे थे
रानी को समझना था दुष्कर !
42 
इस तरह वीर अवंतिका बाई ने
हँसते हँसते बलिदान दिया
क्रांति हवन मैं आहुति देकर
ज्वाला को और भड़का दिया !
43
देश भक्ति के लिये केवल
मन मैं पक्की लगन रखो
पिछडा वर्ग क्या करेगा इसमें
जब मन देश भक्ति में डूबा हो !
44
सिखा गई दर दिखा गई
मन में यदि कुछ ठानोगे
द्रढ विश्वास रखोगे उस पर
जो चाहोगे वो पा लोगे !
45
धन धन रानी अवंतिका बाई
धन धन उनका देश प्रेम
ज्वलंत प्रमाण बन कर निकली
स्वभिमान का अखण्ड तेज !

डा इन्दिरा ✍







Comments

  1. जय हो... महारानी की महागाथा वाकई अनुसरणीय है... धन्य है यह भूमि, जहाँ ऐसी महान प्रतिभाओं ने अवतार लिया🙏

    ReplyDelete
    Replies
    1. पढ़ने और गुनने का आभार अमित जी

      Delete
  2. वाह सखी ..... सुन्दर रचना

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

वीरांगना सूजा कँवर राजपुरोहित मारवाड़ की लक्ष्मी बाई

वीर बहुटी वीरांगना सूजा कँवर राज पुरोहित मारवाड़ की लक्ष्मी बाई ..✊ सन 1857 ----1902  काल जीवन पथ था सूजा कँवर  राज पुरोहित का ! मारवाड़ की ऐसी वीरांगना जिसने 1857 के प्रथम स्वाधीनता संग्राम मैं मर्दाने भेष में हाथ मैं तलवार और बन्दूक लिये लाड्नू (राजस्थान ) में अंग्रेजों से लोहा लिया और वहाँ से मार भगाया ! 1857 से शुरू होकर 1947 तक चला आजादी का सतत आंदोलन ! तब पूर्ण हुआ जब 15 अगस्त 1947 को देश परतंत्रता की बेड़ियों से मुक्त हुआ ! इस लम्बे आंदोलन में राजस्थान के योगदान पर इतिहास के पन्नों मैं कोई विशेष  चर्चा नहीं है ! आजादी के इतने  वर्ष बीत जाने के बाद भी राजस्थानी  वीरांगनाओं का  नाम और योगदान कहीं  रेखांकित नहीं किया गया है ! 1857 की क्रांतिकी एक महान हस्ती रानी लक्ष्मी बाई को पूरा विश्व जानता है ! पर सम कालीन एक साधारण से परिवार की महिला ने वही शौर्य दिखलाया और उसे कोई नहीं जानता ! लाड्नू  में वो मारवाड़ की लक्ष्मी बाई के नाम से जानी और पहचानी जाती है ! सूजा कँवर का जन्म 1837 के आस पास तत्कालीन मारवाड़ राज्य के लाडनू ठिकाने नागौर जिले ( वर्तमान मैं लाडनू शहर )में एक उच्च आद

वीरांगना रानी द्रौपदी

वीरांगना रानी द्रौपदी धार क्षेत्र क्राँति की सूत्रधार .! रानी द्रौपदी निसंदेह ही एक प्रसिद्ध वीरांगना हुई है जिनके बारे मैं लोगों को बहुत कम जानकारी है ! छोटी से रियासत की रानी द्रौपदी बाई ने अपने कामों ये सिद्द कर दिया की भारतीय ललनाओ मैं भी रणचण्डी और दुर्गा का रक्त प्रवाहित है ! धार मध्य भारत का एक छोटा सा राज्य जहां के  निसंतान  राजा ने  देहांत के एकदिन पहले ही अवयस्क छोटे  भाई को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया 22 मैं 1857 को राजा का देहांत हो गया ! रानी द्रौपदी ने राज भार सँभला ! रानी द्रौपदी के मन मैं क्राँति की ज्वाला धधक रही थी रानी के राज संभालते ही क्राँति की लहर द्रुत गति से बह निकली ! रानी ने रामचंद्र बाबू को अपना दीवान नियुक्त किया वो जीवन भर रानी के समर्थक रहे ! सन 1857 मैं रानी ने ब्रितानिया का विरोध कर रहे क्रांतिकारीयों  को पूर्ण सहयोग दिया सेना मैं वेतन पर अरब और अफगानी सैनिक नियुक्त किये जो अंग्रेजों को पसंद नहीं आया ! अंग्रेज रानी द्रौपदी की वीरता और साहस को जानते थे सम उनका खुल कर विरोध नहीं करते थे ! और रानी कभी अंग्रेजो से भयभीत नहीं हुई उनके खिलाफ क्रँतिक

वीर बहुटी ..वीरांगना जैतपुर की रानी

वीर बहुटी वीरांगना जैतपुर की रानी ..✊ बात उस समय की जब ईस्ट इंडिया कम्पनी विस्तार नीति का पालन कर रही थी ! लार्ड क्लाइव ने भारत में ब्रितानी राज्य की स्थापना की ! जिसे लार्ड कार्न्वलीस और लार्ड बेलेजली  ने भारत के कोने कोने में फैला दिया ! लार्ड डलहौजी ने हड़प की नीति अपनाते हुए झांसी .सतारा .आदी राज्यों को कम्पनी साम्राज्य में मिला लिया ! बाकी बचे राजाओं और सरदारों के अधिकार भी समाप्त कर दिये ! लार्ड एलन वर्ड ने जैतपुर जैसी छोटी सी रियासत के स्वतंत्र अस्तित्व को तहस नहस कर दिया ! जैतपुर बुंदेलखंड की एक छोटी सी रियासत थी ! कम्पनी सरकार ने 27 नवम्बर सन 1842 ई में जैतपुर पर अधिकार कर उसे ब्रितानी राज्य में मिला लिया ! उस समय जैतपुर में आजादी का प्रेमी राजा परीक्षित शासन करते थे ! उनके जीवन का मुख्य उद्देश्य ब्रितानी सत्ता को भारत से जड़ से उखाड़ फैंकना था ! पर वह कम्पनी सरकार की तुलना में बहुत कमजोर और कम थे ! अतः कम्पनी सरकार ने बहुत आसानी से उन्हें पराजित कर जैतपुर पर अपना अधिकार कर लिया ! ऐसी स्तिथि में राजा परीक्षित को अपना जैतपुर छोड़ कर भागने को विवश होना पड़ा ! ब्रिटिश सरकार ने अ