Skip to main content

उपालम्भ

उपालम्भ ....

भौंचक रह गये ज्ञानी उधो
बुद्धि लगी चकराने
भोली ग्वालिन अनपढ़ जाहिल
कैसो ज्ञान बखाने !
तभी तमक कर बोली ग्वालिन
का आये हो लेने
मूल धन तो अक्रूर जी ले गये
तुम आये क्या ब्याज के लाने !
हमरो मारग नेह को
फूलन की सी क्यारी
निर्गुण कंटक बोय के
काहे बर्बाद कर रहे यारी !
तुम तो ज्ञानी ध्यानी उधो
एक बात कहूँ सांची
कहीं सुनी नारी जोग लियो है
का वेद पुराण नहीं बांची !
जाओ उधो और ना रुकना
बात बिगड़ जायेगी
कान्हा पर रिस आय रही है
तोपे  पे उतर जायेगी !
एक तो इति दूर बैठे है
ऊपर से ज्ञान बघारे
निर्गुण सगुण को भेद बतरावे
का ..हमकू बावरी जाने !
नेह ज्ञान में एक चुननौ थो
नेह कु हम चुन लीनो
बीते उमरिया चाहे जैसी
अब नाही पालो बदलनौ !
कहना जाके अपने श्याम से
तनि  चिंतित ना होये
आनो है तो खुद ही आये
और ना भेजै कोये !

डा इन्दिरा .✍

Comments

  1. जाओ उधो और ना रुकना
    बात बिगड़ जायेगी
    कान्हा पर रिस आय रही है
    तोपे पे उतर जायेगी !
    प्रिय इंदिरा जी -- आपकी सुदक्ष लेखनी से ऊधो के साथ अनपढ़ गोपियों का ये संवाद पढ़कर मन भावुक हो गया और आपकी लेखनी के समक्ष नत हो गया | सरस और सरल भाषा में आपने उनके उपालंभ को जो शब्द दिए हैं वो अनमोल हैं | मैं चाहूं भी तो कभी इस तरह का हृदयस्पर्शी नहीं लिख पाऊँगी हालाँकि कृष्ण कथा के ये प्रसंग मुझे भी बहुत प्रिय हैं और भ्रमरगीतसार को मैंने बहुत मन से पढ़ रखा है |
    कितना सुंदर लिखा आपने -- सराहना से परे !!!!!
    हमरो मारग नेह को
    फूलन की सी क्यारी
    निर्गुण कंटक बोय के
    काहे बर्बाद कर रहे यारी !
    तुम तो ज्ञानी ध्यानी उधो
    एक बात कहूँ सांची
    कहीं सुनी नारी जोग लियो है
    का वेद पुराण नहीं बांची ! !!!!!!!!
    कुछ नहीं लिख पाऊँगी -- सो निशब्द नमन बस !!!!!!!! सस्नेह --

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहिल आभार रेनू जी आपकी जर्रा नवाजी है अभी कलम पकड़ना सीख रही हूँ ! ...कान्हा तो मेरे बाल सखा है ! उनपर जब लिखती हूँ तो बिन प्रयास ही लेखनी चल देती है ! कान्हा पर लेखन मेरा प्रिय शगल है !
      आपका लेखन तो अद्वितीय है सखी !
      आपकी अद्भुत प्रतिक्रिया ने मेरे लेखन में चार चाँद लगा दिये
      नमन 🙏

      Delete
  2. जाओ उधो और ना रुकना
    बात बिगड़ जायेगी
    कान्हा पर रिस आय रही है
    तोपे पे उतर जायेगी !
    एक तो इति दूर बैठे है
    ऊपर से ज्ञान बघारे
    बेहद खूबसूरत रचना इंदिरा जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहिल आभार अनुराधा जी

      Delete
  3. कृष्ण प्रेमी गोपियों के विरह से व्याकुल मन की दशा का हृदयस्पर्शी शब्दचित्र उकेरा है आपने...बहुत ही सुन्दर.... बहुत लाजवाब...
    वाह!!!

    ReplyDelete
  4. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 23 सितम्बर 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. कान्हा जी के लिए भला आपसे ज्यादा भावपूर्ण कौन लिख सकता है जी।
    सरस,सुंदर मर्मस्पर्शी रचना..👌👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार प्रिय श्वेता जी ..तन मन की तुम जानन हारी तभी बनी हो मीत हमारी !
      का कान्हा का सखी सहेली सभी सभी सुहाये हमको प्यारी !

      Delete
  6. गोपियों से पराजित उद्धव दौडे कृष्ण के पास

    उद्धव ज्ञान गठरिया समेटे
    आये माधव के पास
    हे मुरारी मैं हारा
    तुझ प्रेम पराकाष्ठा में ही निहित
    है परभव आनंद
    ये आज सीखा दिया
    मुझ अकिंचन को
    अपढ़ प्रेम पगी गोपियन ने।

    बहुत सुंदर के उदगार आपकी भक्ति रसमय लेखनी से मीता, अज्ञानी कही जाने वाली गोपियों का अनंत प्यार ज्ञानी उद्धव के परभव ज्ञान से जीत गया।

    बहुत बहुत सरस भक्ति मे डूबा काव्य।

    ReplyDelete
  7. इंदिराजी, उद्धवजी और गोपियों का संवाद और उसका सार बिरलों को सहज समझ आता है.
    आपने उसे सरल कर दिया जैसी सरल गोपियों की भक्ति थी.
    ऊधौ मन ना भये .....

    ReplyDelete
  8. indirag . very nice , kindly add me

    SANDEEP GARG ,

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

वीरांगना सूजा कँवर राजपुरोहित मारवाड़ की लक्ष्मी बाई

वीर बहुटी वीरांगना सूजा कँवर राज पुरोहित मारवाड़ की लक्ष्मी बाई ..✊ सन 1857 ----1902  काल जीवन पथ था सूजा कँवर  राज पुरोहित का ! मारवाड़ की ऐसी वीरांगना जिसने 1857 के प्रथम स्वाधीनता संग्राम मैं मर्दाने भेष में हाथ मैं तलवार और बन्दूक लिये लाड्नू (राजस्थान ) में अंग्रेजों से लोहा लिया और वहाँ से मार भगाया ! 1857 से शुरू होकर 1947 तक चला आजादी का सतत आंदोलन ! तब पूर्ण हुआ जब 15 अगस्त 1947 को देश परतंत्रता की बेड़ियों से मुक्त हुआ ! इस लम्बे आंदोलन में राजस्थान के योगदान पर इतिहास के पन्नों मैं कोई विशेष  चर्चा नहीं है ! आजादी के इतने  वर्ष बीत जाने के बाद भी राजस्थानी  वीरांगनाओं का  नाम और योगदान कहीं  रेखांकित नहीं किया गया है ! 1857 की क्रांतिकी एक महान हस्ती रानी लक्ष्मी बाई को पूरा विश्व जानता है ! पर सम कालीन एक साधारण से परिवार की महिला ने वही शौर्य दिखलाया और उसे कोई नहीं जानता ! लाड्नू  में वो मारवाड़ की लक्ष्मी बाई के नाम से जानी और पहचानी जाती है ! सूजा कँवर का जन्म 1837 के आस पास तत्कालीन मारवाड़ राज्य के लाडनू ठिकाने नागौर जिले ( वर्तमान मैं लाडनू शहर )में एक उच्च आद

वीरांगना रानी द्रौपदी

वीरांगना रानी द्रौपदी धार क्षेत्र क्राँति की सूत्रधार .! रानी द्रौपदी निसंदेह ही एक प्रसिद्ध वीरांगना हुई है जिनके बारे मैं लोगों को बहुत कम जानकारी है ! छोटी से रियासत की रानी द्रौपदी बाई ने अपने कामों ये सिद्द कर दिया की भारतीय ललनाओ मैं भी रणचण्डी और दुर्गा का रक्त प्रवाहित है ! धार मध्य भारत का एक छोटा सा राज्य जहां के  निसंतान  राजा ने  देहांत के एकदिन पहले ही अवयस्क छोटे  भाई को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया 22 मैं 1857 को राजा का देहांत हो गया ! रानी द्रौपदी ने राज भार सँभला ! रानी द्रौपदी के मन मैं क्राँति की ज्वाला धधक रही थी रानी के राज संभालते ही क्राँति की लहर द्रुत गति से बह निकली ! रानी ने रामचंद्र बाबू को अपना दीवान नियुक्त किया वो जीवन भर रानी के समर्थक रहे ! सन 1857 मैं रानी ने ब्रितानिया का विरोध कर रहे क्रांतिकारीयों  को पूर्ण सहयोग दिया सेना मैं वेतन पर अरब और अफगानी सैनिक नियुक्त किये जो अंग्रेजों को पसंद नहीं आया ! अंग्रेज रानी द्रौपदी की वीरता और साहस को जानते थे सम उनका खुल कर विरोध नहीं करते थे ! और रानी कभी अंग्रेजो से भयभीत नहीं हुई उनके खिलाफ क्रँतिक

वीर बहुटी ..वीरांगना जैतपुर की रानी

वीर बहुटी वीरांगना जैतपुर की रानी ..✊ बात उस समय की जब ईस्ट इंडिया कम्पनी विस्तार नीति का पालन कर रही थी ! लार्ड क्लाइव ने भारत में ब्रितानी राज्य की स्थापना की ! जिसे लार्ड कार्न्वलीस और लार्ड बेलेजली  ने भारत के कोने कोने में फैला दिया ! लार्ड डलहौजी ने हड़प की नीति अपनाते हुए झांसी .सतारा .आदी राज्यों को कम्पनी साम्राज्य में मिला लिया ! बाकी बचे राजाओं और सरदारों के अधिकार भी समाप्त कर दिये ! लार्ड एलन वर्ड ने जैतपुर जैसी छोटी सी रियासत के स्वतंत्र अस्तित्व को तहस नहस कर दिया ! जैतपुर बुंदेलखंड की एक छोटी सी रियासत थी ! कम्पनी सरकार ने 27 नवम्बर सन 1842 ई में जैतपुर पर अधिकार कर उसे ब्रितानी राज्य में मिला लिया ! उस समय जैतपुर में आजादी का प्रेमी राजा परीक्षित शासन करते थे ! उनके जीवन का मुख्य उद्देश्य ब्रितानी सत्ता को भारत से जड़ से उखाड़ फैंकना था ! पर वह कम्पनी सरकार की तुलना में बहुत कमजोर और कम थे ! अतः कम्पनी सरकार ने बहुत आसानी से उन्हें पराजित कर जैतपुर पर अपना अधिकार कर लिया ! ऐसी स्तिथि में राजा परीक्षित को अपना जैतपुर छोड़ कर भागने को विवश होना पड़ा ! ब्रिटिश सरकार ने अ