Skip to main content

पत्थर का माँ / जीवित माँ

पाथर  की माँ / जीवित माँ

पाथर की माता ला रहे
खुश होकर घर आज
हंसी खुशी से सजा रहे
माता का  दरबार !

द्वार खोल खड़ा माँ खातिर
पूजन की करली तय्यारी
षटरस व्यंजन पायस मीठा
धूप दीप धरे भारी !  !

पर ....

घर के पिछवाड़े जिंदा माँ को
भूखा प्यासा मार रहे
बूढ़ी हड्डियाँ कांप रही
आंखों में पढ़ गये जाले !

जन्म दात्री को भूल के पगले
पाथर की माँ भजना चाहे
अज्ञानी समझा क्या माँ को
जो ऐसे घर आना चाहे !

घर के पूत कवारे डोले
पाडोसी  के हो फेरे
उल्टी रीत छोड़ दे मानव
माँ  की कदर तो तू कर ले !

लक्ष्मी , दुर्गा माँ सरस्वती
सब का उसमें  है निवास
जिसने तुझको जनम  दिया
सबसे पहले वो है  खास !

डा इन्दिरा  .✍
स्व रचित

Comments

  1. प्रिय इंदिरा जी -- आज ऑनलाइन होते ही सबसे पहले आपकी रचना पर नजर पढ़ी जिसमे मर्मान्तक चित्र मन बेध गया तो माँ के लिए लिखे गये आपके श्ब्दों ने मन के साथ आँखों को भी नम कर दिया | कहीं पढ़ा था कि एक समय की अन्नपूर्णा -- अपने अंतिम समय में एक एक रोटी की मोहताज हो जाती है | पर उसका कारण भी कहीं ना कहीं एक दुसरी नारी होती है | हमारी बेटियां जिन पर गर्व करते हम फूले नहीं समाते - वे ही बहुओं के रूप में संस्कार हीन हो जाती हैं तो जिन्हें इतनी कुर्बानियों से पाला होता है वहीसंतान मौसम की तरह बदल जाती है | बहुएं तो पराये घर से आई होती हैं - बेटे तो माँ के अपने हाथों से पले होते हैं | सच है पत्थर की माँ की इतनी पूजा और अपनी सजीव माँ की ये दुर्गति !!!!!!! पत्थर की माँ यदि बोल पाती तो ऐसे बेटों का पूजन कभी स्वीकार ना करती - हो सकता है मौन रहकर भी वह ऐसे लोगों की पूजा अर्चना का तिरस्कार ही कर रही हो | बहुत ही मर्मभेदी रचना के लिए शब्द नहीं मिल पा रहे-- बस नमन | ये रचना आपकी गहरी अंतर्दृष्टि की परिचायक है |

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका शब्द शब्द सत्य...
      रेनू जी सदा की तरह सृजन को इतना सूक्ष्मता से पढ़ना और भाव प्रवीण समीक्षा करना आभार !
      दिन नारी नारी की ढाल बनेगी उस दिन नारी ना फरियाद करेगी ! सम भाव नारी पा जायेगी उस दिन विहान हो जायेगी ! ...मेरा लिखा हुआ .ना जाये बस व्यर्थ ..
      जिस दिन एक भी माँ को उसका बिछड़ा बेटा मिल जायेगा ..समझो उस दिन मेरा लेखन गरिमामय हो जायेगा !

      Delete
  2. दारुण!
    दिल पर सीधा प्रहार करती रचना मीता।

    कभी मां बाप की सेवा की ही नही
    लाख पूजा रचाले तूं क्या फायदा ।

    ReplyDelete
  3. मर्मस्पर्शी सच्चाई बयां करती है यह रचना

    ReplyDelete
  4. बिलकुल सच कहा है ...
    जिस माँ ने पैदा किया, पाला पोसा बड़ा किया यदि उसका ही मान नहीं कर सके तो माँ की हर पूजा व्यर्थ है ...
    बहुत ही सटीक रचना है ,,,,

    ReplyDelete
  5. कितना बड़ा विरोधाभास है ... जिस माँ ने पैदा किया , बड़ा किया ,उसे यूँ ही छोड़ कर पत्थर की माँ का पूजन करते हैं ... बहुत मार्मिक रचना , चित्र देख कर हिल गयी

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

वीरांगना सूजा कँवर राजपुरोहित मारवाड़ की लक्ष्मी बाई

वीर बहुटी वीरांगना सूजा कँवर राज पुरोहित मारवाड़ की लक्ष्मी बाई ..✊ सन 1857 ----1902  काल जीवन पथ था सूजा कँवर  राज पुरोहित का ! मारवाड़ की ऐसी वीरांगना जिसने 1857 के प्रथम स्वाधीनता संग्राम मैं मर्दाने भेष में हाथ मैं तलवार और बन्दूक लिये लाड्नू (राजस्थान ) में अंग्रेजों से लोहा लिया और वहाँ से मार भगाया ! 1857 से शुरू होकर 1947 तक चला आजादी का सतत आंदोलन ! तब पूर्ण हुआ जब 15 अगस्त 1947 को देश परतंत्रता की बेड़ियों से मुक्त हुआ ! इस लम्बे आंदोलन में राजस्थान के योगदान पर इतिहास के पन्नों मैं कोई विशेष  चर्चा नहीं है ! आजादी के इतने  वर्ष बीत जाने के बाद भी राजस्थानी  वीरांगनाओं का  नाम और योगदान कहीं  रेखांकित नहीं किया गया है ! 1857 की क्रांतिकी एक महान हस्ती रानी लक्ष्मी बाई को पूरा विश्व जानता है ! पर सम कालीन एक साधारण से परिवार की महिला ने वही शौर्य दिखलाया और उसे कोई नहीं जानता ! लाड्नू  में वो मारवाड़ की लक्ष्मी बाई के नाम से जानी और पहचानी जाती है ! सूजा कँवर का जन्म 1837 के आस पास तत्कालीन मारवाड़ राज्य के लाडनू ठिकाने नागौर जिले ( वर्तमान मैं लाडनू शहर )में एक उच्च आद

वीरांगना रानी द्रौपदी

वीरांगना रानी द्रौपदी धार क्षेत्र क्राँति की सूत्रधार .! रानी द्रौपदी निसंदेह ही एक प्रसिद्ध वीरांगना हुई है जिनके बारे मैं लोगों को बहुत कम जानकारी है ! छोटी से रियासत की रानी द्रौपदी बाई ने अपने कामों ये सिद्द कर दिया की भारतीय ललनाओ मैं भी रणचण्डी और दुर्गा का रक्त प्रवाहित है ! धार मध्य भारत का एक छोटा सा राज्य जहां के  निसंतान  राजा ने  देहांत के एकदिन पहले ही अवयस्क छोटे  भाई को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया 22 मैं 1857 को राजा का देहांत हो गया ! रानी द्रौपदी ने राज भार सँभला ! रानी द्रौपदी के मन मैं क्राँति की ज्वाला धधक रही थी रानी के राज संभालते ही क्राँति की लहर द्रुत गति से बह निकली ! रानी ने रामचंद्र बाबू को अपना दीवान नियुक्त किया वो जीवन भर रानी के समर्थक रहे ! सन 1857 मैं रानी ने ब्रितानिया का विरोध कर रहे क्रांतिकारीयों  को पूर्ण सहयोग दिया सेना मैं वेतन पर अरब और अफगानी सैनिक नियुक्त किये जो अंग्रेजों को पसंद नहीं आया ! अंग्रेज रानी द्रौपदी की वीरता और साहस को जानते थे सम उनका खुल कर विरोध नहीं करते थे ! और रानी कभी अंग्रेजो से भयभीत नहीं हुई उनके खिलाफ क्रँतिक

वीर बहुटी ..वीरांगना जैतपुर की रानी

वीर बहुटी वीरांगना जैतपुर की रानी ..✊ बात उस समय की जब ईस्ट इंडिया कम्पनी विस्तार नीति का पालन कर रही थी ! लार्ड क्लाइव ने भारत में ब्रितानी राज्य की स्थापना की ! जिसे लार्ड कार्न्वलीस और लार्ड बेलेजली  ने भारत के कोने कोने में फैला दिया ! लार्ड डलहौजी ने हड़प की नीति अपनाते हुए झांसी .सतारा .आदी राज्यों को कम्पनी साम्राज्य में मिला लिया ! बाकी बचे राजाओं और सरदारों के अधिकार भी समाप्त कर दिये ! लार्ड एलन वर्ड ने जैतपुर जैसी छोटी सी रियासत के स्वतंत्र अस्तित्व को तहस नहस कर दिया ! जैतपुर बुंदेलखंड की एक छोटी सी रियासत थी ! कम्पनी सरकार ने 27 नवम्बर सन 1842 ई में जैतपुर पर अधिकार कर उसे ब्रितानी राज्य में मिला लिया ! उस समय जैतपुर में आजादी का प्रेमी राजा परीक्षित शासन करते थे ! उनके जीवन का मुख्य उद्देश्य ब्रितानी सत्ता को भारत से जड़ से उखाड़ फैंकना था ! पर वह कम्पनी सरकार की तुलना में बहुत कमजोर और कम थे ! अतः कम्पनी सरकार ने बहुत आसानी से उन्हें पराजित कर जैतपुर पर अपना अधिकार कर लिया ! ऐसी स्तिथि में राजा परीक्षित को अपना जैतपुर छोड़ कर भागने को विवश होना पड़ा ! ब्रिटिश सरकार ने अ