Skip to main content

वीर बहुटि नन्ही बालिका चम्पा

वीर बहुटि
महारणा प्रताप की बेटी चम्पा ✊

राणा लेकर परिजनो को
वन वन भटक रहे थे
संधि मंजूर नहीँ मुगलों से
वनवास काट रहे थे ।

जंगल जंगल फिरते थे
भूखे प्यासे चिंतित से
घास की रोटी खाते
झरने का पानी पीते ।

नन्ही बालिका चम्पा
उम्र अभी कच्ची  थी
राणा की प्यारी बेटी थी
भाई कें संग खेलती थी ।

राणा का ही लहू बह रहा
चम्पा की रग रग मेंं
विचलित नहीँ होती थी तनि भी
संकट काल  घड़ी मेंं ।

समझ विवशता पिता की
नन्हे अमर को समझाती
जंगल मैं क्यों फिरते हैं
थी पूरी बात बताती ।

एक दिवस अतिथि आया
राणा दुखी भोजन नहीँ कराया
तुरन्त चम्पा ने घास की रोटी
रख अतिथी का थल लगाया ।

भोली बालिका हँस कर बोली
कल की रोटी हूँ लाई
भाई कें लिये उठा कर रखी
अब आप अरौगे ये भाई ।

कह चम्पा ने थाल उठा कर
अतिथी को .पकड़ाया था
देख कें राणा द्रवित हो गये
आँखो मैं पानी आया था ।

सोचा राणा ने सन्धी  कर लू
कागज तभी मंगाया
हार मानता हूँ अकबर  से
ये भाव तभी मन आया ।

देखा चम्पा ने द्रवित पिता को
सिंहनी सी हुँकार उठी
सन्धी नहीँ युद्ध करेगे
कटार चाहिऐ मुझे अभी ।

वो कौन हैं जिसने छीन  लिया
सब राज पाट हैं अपना
वो दुश्मन मुझे बता दो
सर कलम करू मेंं उसका ।

पराधीन नहीँ होगे हम
कह कर चम्पा चिल्लाई
राणा की गोदी से उछल पड़ी
वो क्षत्राणी की जाई ।

आँखो मेंं रक्त उबलता था
छाती तेज श्वास भरती थी
रण चण्डी अवतरित हुई हो
ऐसी भासित होती थी ।

क्षणिक मोहे के खातिर क्या
हम अकबर के दास बनेगे
अजर अमर नहीँ हैं कोई
हमे जीवित मरण सहेंगे ।

इतना कहकर  दुर्बल काया
निश्तेज हो गईं गिर कर
प्राण त्याग दिये चम्पा ने
पर झुकि नहीँ रत्ती भर ।

कहते हैं राणा ने उस पल
वादा चम्पा से किया था
मरते मर जाऊंगा बेटी
पर सन्धी नहीँ करूंगा ।

ऐसा मजबूत कलेजा लेकर
जहाँ बच्चियां जनमती हैं
भारत माँ सिंहनी की जननी
शत शत नमन हम करते हैं ।

जब जब चम्पा जैसी कन्या
भारत भूमी पर उतरेंगी
शोणित बीज ना  उगने देगी
रक्त से खप्पर भर देगी  ।

वीर पिता की वीर सुता थी
पल भर को हार ना मानी
जंगल जंगल भटकी चाहे
ना सन्धी की मन मेंं ठानी  ॥

ऐसी सुभट वीर बालाये
जब भारत की प्रहरी हो
बाल ना बांका करने पाये
चाहे दुश्मन कितना बैरी हो ।

डा .इन्दिरा  गुप्ता  यथार्थ
(मौलिक रचना )
(सर्वाधिकार  सुरक्षित )





Comments

Popular posts from this blog

वीरांगना सूजा कँवर राजपुरोहित मारवाड़ की लक्ष्मी बाई

वीर बहुटी वीरांगना सूजा कँवर राज पुरोहित मारवाड़ की लक्ष्मी बाई ..✊ सन 1857 ----1902  काल जीवन पथ था सूजा कँवर  राज पुरोहित का ! मारवाड़ की ऐसी वीरांगना जिसने 1857 के प्रथम स्वाधीनता संग्राम मैं मर्दाने भेष में हाथ मैं तलवार और बन्दूक लिये लाड्नू (राजस्थान ) में अंग्रेजों से लोहा लिया और वहाँ से मार भगाया ! 1857 से शुरू होकर 1947 तक चला आजादी का सतत आंदोलन ! तब पूर्ण हुआ जब 15 अगस्त 1947 को देश परतंत्रता की बेड़ियों से मुक्त हुआ ! इस लम्बे आंदोलन में राजस्थान के योगदान पर इतिहास के पन्नों मैं कोई विशेष  चर्चा नहीं है ! आजादी के इतने  वर्ष बीत जाने के बाद भी राजस्थानी  वीरांगनाओं का  नाम और योगदान कहीं  रेखांकित नहीं किया गया है ! 1857 की क्रांतिकी एक महान हस्ती रानी लक्ष्मी बाई को पूरा विश्व जानता है ! पर सम कालीन एक साधारण से परिवार की महिला ने वही शौर्य दिखलाया और उसे कोई नहीं जानता ! लाड्नू  में वो मारवाड़ की लक्ष्मी बाई के नाम से जानी और पहचानी जाती है ! सूजा कँवर का जन्म 1837 के आस पास तत्कालीन मारवाड़ राज्य के लाडनू ठिकाने नागौर जिले ( वर्तमान मैं लाडनू शहर )में एक उच्च आद

वीरांगना रानी द्रौपदी

वीरांगना रानी द्रौपदी धार क्षेत्र क्राँति की सूत्रधार .! रानी द्रौपदी निसंदेह ही एक प्रसिद्ध वीरांगना हुई है जिनके बारे मैं लोगों को बहुत कम जानकारी है ! छोटी से रियासत की रानी द्रौपदी बाई ने अपने कामों ये सिद्द कर दिया की भारतीय ललनाओ मैं भी रणचण्डी और दुर्गा का रक्त प्रवाहित है ! धार मध्य भारत का एक छोटा सा राज्य जहां के  निसंतान  राजा ने  देहांत के एकदिन पहले ही अवयस्क छोटे  भाई को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया 22 मैं 1857 को राजा का देहांत हो गया ! रानी द्रौपदी ने राज भार सँभला ! रानी द्रौपदी के मन मैं क्राँति की ज्वाला धधक रही थी रानी के राज संभालते ही क्राँति की लहर द्रुत गति से बह निकली ! रानी ने रामचंद्र बाबू को अपना दीवान नियुक्त किया वो जीवन भर रानी के समर्थक रहे ! सन 1857 मैं रानी ने ब्रितानिया का विरोध कर रहे क्रांतिकारीयों  को पूर्ण सहयोग दिया सेना मैं वेतन पर अरब और अफगानी सैनिक नियुक्त किये जो अंग्रेजों को पसंद नहीं आया ! अंग्रेज रानी द्रौपदी की वीरता और साहस को जानते थे सम उनका खुल कर विरोध नहीं करते थे ! और रानी कभी अंग्रेजो से भयभीत नहीं हुई उनके खिलाफ क्रँतिक

वीर बहुटी ..वीरांगना जैतपुर की रानी

वीर बहुटी वीरांगना जैतपुर की रानी ..✊ बात उस समय की जब ईस्ट इंडिया कम्पनी विस्तार नीति का पालन कर रही थी ! लार्ड क्लाइव ने भारत में ब्रितानी राज्य की स्थापना की ! जिसे लार्ड कार्न्वलीस और लार्ड बेलेजली  ने भारत के कोने कोने में फैला दिया ! लार्ड डलहौजी ने हड़प की नीति अपनाते हुए झांसी .सतारा .आदी राज्यों को कम्पनी साम्राज्य में मिला लिया ! बाकी बचे राजाओं और सरदारों के अधिकार भी समाप्त कर दिये ! लार्ड एलन वर्ड ने जैतपुर जैसी छोटी सी रियासत के स्वतंत्र अस्तित्व को तहस नहस कर दिया ! जैतपुर बुंदेलखंड की एक छोटी सी रियासत थी ! कम्पनी सरकार ने 27 नवम्बर सन 1842 ई में जैतपुर पर अधिकार कर उसे ब्रितानी राज्य में मिला लिया ! उस समय जैतपुर में आजादी का प्रेमी राजा परीक्षित शासन करते थे ! उनके जीवन का मुख्य उद्देश्य ब्रितानी सत्ता को भारत से जड़ से उखाड़ फैंकना था ! पर वह कम्पनी सरकार की तुलना में बहुत कमजोर और कम थे ! अतः कम्पनी सरकार ने बहुत आसानी से उन्हें पराजित कर जैतपुर पर अपना अधिकार कर लिया ! ऐसी स्तिथि में राजा परीक्षित को अपना जैतपुर छोड़ कर भागने को विवश होना पड़ा ! ब्रिटिश सरकार ने अ